तिल्यार, तिल्यार की बार और तीन यार

अरे दीवानों---हमें पहचानो

पहचानने वाले को पानीपत की महाराजा बार में एक शाम फ्री 






मौज-मस्ती के तराने आपके.
प्रीत के सारे बहाने आपके.
चांदनी, चंपा, चमेली, चाँद भी,
बोलते-बिंदास माने आपके..
--योगेन्द्र मौदगिल

30 comments:

Majaal said...

बाकी सब तो बहुत खूब साहब,
हटा लें जो तस्वीर-ए-पैमाने आपके ...

प्रवीण पाण्डेय said...

यह माहौल बना रहे।

डॉ टी एस दराल said...

लो जी पहचान लिया । अब क्या करें ?

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" said...

अरे पहचानो, ज़रा पहचानो, मुझे पहचानो, मैं हूँ कौन ...

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

मैंने तो तीन बार पहचान लिया... अब!

ललित शर्मा said...

पिछाण लिए जी - पाणीपत की महाराजा बार पार्टी पक्की।:)

Arvind Mishra said...

ये तिल्यार क्या हो गया यार पूरा काण्ड हो गया !

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

:):)

'उदय' said...

... amar ... akbar ... anthony ...!!!

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

निगाह थोडी कमजोर सै..इस करकै पहचान मैं कोणी आ रहे...कूण सैं :)

AlbelaKhatri.com said...

so nice

अमिताभ मीत said...

:)

Udan Tashtari said...

पहचान तो गये....

Kunwar Kusumesh said...

वाह मोदगिल जी वाह........
ब्लॉग पे भी आप की मौजूदगी,
हम तो पहले से दीवाने आपके.

अजय कुमार झा said...

बंदे तो पिचाण लिए जी , पर जूस न पता चल रया किसका हैगा ..एप्पिल है या मुसम्मी

केवल राम said...

मुझे पहचानने में कोई कठिनाई नहीं ...
मुझे आपका काम याद है ....पर, पता नहीं चल रहा है ...जैसे ही पता चलेगा में जरुर आपसे संपर्क करूँगा ...शुक्रिया

डा. अरुणा कपूर. said...

मौदगिल जी!...नमस्कार!.... बिच में खडे तो आप है!.....और ?...फोटो बडी पेश करें!...आप का गजल-गीत संग्रह 'आंधी आंखे, गीले सपने..' वास्तविकता के धरातल पर होते हुए भी मनोरंजक है!....बहुत अच्छा लगा, धन्यवाद!

shikha varshney said...

पहचान लिया :) पानीपत की टिकट भेजिए अब.:)

Kajal Kumar said...

हम्म बड़ी गर्मी रही होगी कि ठंडा पी रहे हो :)

कुमार राधारमण said...

देर से आया। कई लोग पहले ही पहचान चुके हैं। मेरी कोई ज़रूरत नहीं अब।

महेन्द्र मिश्र said...

इन कातिल निगाहों से कहाँ तक छुपोगे जनाब .... पहचान गए ....

महेन्द्र मिश्र said...

कूल कूल .... लगता है सोडा के साथ हा हा हा

Ratan Singh Shekhawat said...

:)

ताऊ रामपुरिया said...

इन्ही की पहचान के लिये तो महाराज धृतराष्ट्र ने रामप्यारे को मना किया था, अब बतादे क्या?:)

रामराम

ताऊ रामपुरिया said...

इन्ही की पहचान के लिये तो महाराज धृतराष्ट्र ने रामप्यारे को मना किया था, अब बतादे क्या?:)

रामराम

सतीश सक्सेना said...

फोटो में जरूर कुछ कांट छाँट हुई है, योगेन्द्र मौदगिल की जांच कराई जाये ! शरीफ लोगों को बदनाम किया जा रहा है, मौदगिल जैसे लोगों को ब्लॉग जगत से बाहर किया जाए !

नीरज गोस्वामी said...

भाई मूंछों वाले तो ललित हैं दाढ़ी वाले आप हैं और बीच वाले सतीश जी हैं...अब उठाओ जाम...चियर्स...


नीरज

अन्तर सोहिल said...

पिछाण म्है तै कोन्या आरह्ये
पर जब इतने ब्लॉगरां नैं महाराजा बार म्है पार्टी दोगे तो हमनै के बाहर काढ दोगे, हम भी बैठ ज्यांगे पाछै नै जाकै।

जै रामजी की

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

दाढी वाले तो अमिताभ बच्चन है पक्का . बाकि दो ...लगते तो ब्लागर टाइप है

boletobindas said...

है कोई बात हुई खुद हो तो लिए टुन्न के शार्गिद और दिल्ली वालो को भुल गए। कमीने हम भी कम नहीं.....कल्ले की तस्वीर लगा देंगे...आर कह देंगे ....मैं मेरी और पैमाना..औह जांगे तीन हम भी