चार पैसे कमा लिये उसने........

चार पैसे कमा लिये उसने.
यार अपने गँवा लिये उसने.

बाज़ से वायदा-फरोशी में,
छत पे पंछी बुला लिये उसने.

अपना साया तलक भी हार गया,
फिर भी पत्ते बिछा लिये उसने.

आज कोई नया शिगूफा है,
लोग इतने बुला लिये उसने.

फिर से इक मोड़ है कहानी में,
फिर से किस्से उठा लिये उसने.

रात भर करवटों से यारी थी,
फिर भी सपने बुला लिये उसने.

लोग कहते रहेंगे, कहने दो,
और शीशे चढ़ा लिये उसने.

भेद चमड़ी का जान कर 'मुदगिल"
सारे सिक्के चला लिये उसने.
--योगेन्द्र मौदगिल 


27 comments:

सतीश सक्सेना said...

वाकई में यार ...क्या चीज हैं आप ?
लोगों की पहचान खूब है :-)
शुभकामनायें !

ताऊ रामपुरिया said...

चार पैसे कमा लिये उसने.
यार अपने गँवा लिये उसने.

बहुत सटीक, शुभकामनाएं.

रामराम.

AlbelaKhatri.com said...

waah waah
anand aa gaya bhai !

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत खूब ..अच्छी प्रस्तुति

रश्मि प्रभा... said...

फिर से इक मोड़ है कहानी में,
फिर से किस्से उठा लिये उसने.
waah...

प्रवीण पाण्डेय said...

बड़ी प्रभावशाली अभिव्यक्ति।

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

जीवन की सच्चाई - हर एक पद बढिया!

shardul said...

रोजाना पढता हूं आपकी रचनाएं । आज पहली बार अभिप्राय दे रहा हूं..

"रात भर करवटों से यारी थी,
फिर भी सपने बुला लिये उसने..."


बहुतही पसंद आया शेर...

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आज 28 07- 2011 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
____________________________________

सदा said...

चार पैसे कमा लिये उसने.
यार अपने गँवा लिये उसने.

बाज़ से वायदा-फरोशी में,
छत पे पंछी बुला लिये उसने.

बहुत खूब कहा है आपने ...बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

धर्मेन्द्र कुमार सिंह ‘सज्जन’ said...

बहुत शानदार ग़ज़ल कही है आपने। हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए।

Mridula Harshvardhan said...

रात भर करवटों से यारी थी,
फिर भी सपने बुला लिये उसने.

anupam kriti

aap bhi aaiye

abhar

Naaz

डॉ टी एस दराल said...

सही खरी खरी सुना दी योगेन्द्र जी ।
बहुत बढ़िया ग़ज़ल ।

दिगम्बर नासवा said...

वाह ... क्या बात है सटीक खरी खरी सुनाई है ..

योगेन्द्र मौदगिल said...

@ bhai satish saksena ji

जब लेखनी ही आन-बान-शान हो गई.
तो धीरे-धीरे दुनिया की पहचान हो गई..
मैंने भी देखा प्यार से सारे जहान को,
दुनिया इन्ही नज़रों की कदरदान हो गई..

योगेन्द्र मौदगिल said...

@Tau......Ram-Ram

ताऊ तेरी शुभकामना मेरे ही लिए है.
ते राम-राम बांचना मेरे ही लिए है.
ना शाख , न पत्ते, कहीं ना डालियों की बात,
ये है जड़ों की वंदना मेरे ही लिए है.

योगेन्द्र मौदगिल said...

abhi ek karyakram me jaane ka bulawa yane phone aa gaya varna sabhi shubhchintkon ka uttar muktak me hi deta.....aakar dekhta hoon...mood banaa raha to....

अनामिका की सदायें ...... said...

sach sach baat kah di yaar ki.

bahut khoob.

डॉ. मनोज मिश्र said...

चार पैसे कमा लिये उसने.
यार अपने गँवा लिये उसने....
वाह,बहुत खूब.

Mrs. Asha Joglekar said...

बहुत खूब मौदगिल साहब आप तो बस कमाल हैं।

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 01-08-2011 को चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर सोमवासरीय चर्चा में भी होगी। सूचनार्थ

कविता रावत said...

लोग कहते रहेंगे, कहने दो,
और शीशे चढ़ा लिये उसने.
भेद चमड़ी का जान कर 'मुदगिल"
सारे सिक्के चला लिये उसने.
...bahut badiya khari-khari prastuti ke liye dhanyavaad.

anu said...

रात भर करवटों से यारी थी,
फिर भी सपने बुला लिये उसने.
वाह बहुत खूब .......
सपनो की दुनिया भी अपनी ही है ...इस लिए बिना बुलाये महेमान से चले आते है

Sadhana Vaid said...

बाज़ से वायदा-फरोशी में,
छत पे पंछी बुला लिये उसने.

रात भर करवटों से यारी थी,
फिर भी सपने बुला लिये उसने

बहुत खूबसूरत गज़ल कही है आपने ! हर शेर बेमिसाल है ! इंसानी फितरत की खूब पहचान है आपको ! बधाई !

singhSDM said...

छोटे बहर पर उम्दा और दिलचस्प ग़ज़ल
चार पैसे कमा लिये उसने.
यार अपने गँवा लिये उसने.

फिर से इक मोड़ है कहानी में,
फिर से किस्से उठा लिये उसने.
वाह जी वाह क्या खूब शेर कहा डाला....!

vidhya said...

बहुत खूब ..अच्छी प्रस्तुति

Kajal Kumar said...

वाह आज तो अलग हटकर !
उतनी ही सुंदर रचना.