भाई समीर लाल जी .................................

भाई समीर लाल जी
ताऊ मिल गया और असली का मिला.
ताई भी मिली
और आपके आदेशानुसार आपकी दोनों पुस्तकें भी...

आज या कल
"मिलन-पोस्ट"
पोस्ट करूंगा.

एक स्थानीय कार्यक्रम में व्यस्तता के कारण
एक दिन उदारतापूर्वक मुझे दें.
फिलहाल उत्सुकता बनाए रखे

और
एक नितांत ताज़ा छंद पढ़ें.



मन को मरोड़ दिया, तन को झिंझोड़ दिया,
बज़ट ने कर डाला कैसा बंटाधार जी.

महँगी रसोई हुई, महँगा इलाज हुआ,
सस्ते मोबाइल, टीवी, साबुन और कार जी.

टूक-टूक ताक रहे, चशमें से झाँक रहे,
भूखे पेट हांफते मिडल परिवार जी.

प्रणव जी बांच रहे, जनता को जांच रहे,
झूम रही सोनिया हैं मस्त सरदार जी.
--योगेन्द्र मौदगिल




16 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत सुन्दर।

जितेन्द़ भगत said...

ताजा आकलन
यथार्थ
मि‍लन चर्चा का इंतजार रहेगा।

ताऊ रामपुरिया said...

प्रणव जी बांच रहे, जनता को जांच रहे,
झूम रही सोनिया हैं मस्त सरदार जी.

वाह, लाजवाब.

रामराम.

ललित शर्मा said...

मस्त मस्त जी

राम राम

सतीश सक्सेना said...

शुभकामनायें अच्छी सोंच के लिए !

Dr Varsha Singh said...

मन को मरोड़ दिया, तन को झिंझोड़ दिया,
बज़ट ने कर डाला कैसा बंटाधार जी.

महँगी रसोई हुई, महँगा इलाज हुआ,
सस्ते मोबाइल, टीवी, साबुन और कार जी.

शुभकामनायें...
बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.

kunwarji's said...

बहुत ही कातिलान वयंग्य.......
मार ही डाला गुरु जी..

कुंवर जी,

Kajal Kumar said...

28 फरवरी का कुछ नी हो सक्ता....

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

वाह्! वाह्! वाह्!

AlbelaKhatri.com said...

badhiya anubhav raha hoga ..badhaai !

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

जोरदार है..

डॉ. मनोज मिश्र said...

लाजवाब.

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर कविता, धन्यवाद
महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें.

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

मन को मरोड़ दिया, तन को झिंझोड़ दिया,
बज़ट ने कर डाला कैसा बंटाधार जी.

सटीक .... शिवरात्रि की मंगलकामनाएं

निर्मला कपिला said...

टूक-टूक ताक रहे, चशमें से झाँक रहे,
भूखे पेट हांफते मिडल परिवार जी.

प्रणव जी बांच रहे, जनता को जांच रहे,
झूम रही सोनिया हैं मस्त सरदार जी.
पोस्ट पढ कर हम भी मस्त हुये जी। धन्यवाद।

Mrs. Asha Joglekar said...

महँगी रसोई हुई, महँगा इलाज हुआ,
सस्ते मोबाइल, टीवी, साबुन और कार जी.

टूक-टूक ताक रहे, चशमें से झाँक रहे,
भूखे पेट हांफते मिडल परिवार जी.
सही सही बयान ।