अपना जाना-पहचाना है.....

मंदिर हो या मस्ज़िद उस का दोनों में आना-जाना है
जाने कैसी मिट्टी का है जाने कैसा दीवाना है

आदमियत अनदेखी करना उसकी फितरत से बाहर है
इसीलिये घर से बाहर से निपट अकेला बेगाना है

अचरज से सब लोग देख कर इधर-उधर हो जाते हैं
कंक्रीट की दीवारों से अपना ऐसा याराना है

संभव है उस बे-गैरत का उठा हाथ फिर रुक जाये
मक़तल में हर कातिल प्यारे अपना जाना-पहचाना है

अपने पैरों आप कुल्हाड़ी क्यों अचरज़ करते हो यार
मछली कांटे में फंसती है क्योंकि कांटे में दाना है
--योगेन्द्र मौदगिल

20 comments:

डॉ. मनोज मिश्र said...

मंदिर हो या मस्ज़द उस का दोनों में आना-जाना है
जाने कैसी मिट्टी का है जाने कैसा दीवाना है...
बहुत सुंदर .

AlbelaKhatri.com said...

maqtal me jane pahachane qatil ka koi jawab nahin.........khoobsoorat aur achhi ghazal k liye badhai,,,,,,, yogendraji aap bahut hi manje hue rachnakar hain, lakh lakh shubhkamnayen

Udan Tashtari said...

मंदिर हो या मस्ज़द उस का दोनों में आना-जाना है
जाने कैसी मिट्टी का है जाने कैसा दीवाना है

-एक शेर अपने आप में पूरी गज़ल है भाई..गजब!! बहुत बेहतरीन!!

"अर्श" said...

SUBAH SUBAH AAPKE IS MATALE NE TO MIJAAJ DURUST KAR DIYE IS SAUHARD SE.. BAHOT HI KAMAAL KA MATLAA BAN PADAA HAI ... ISME KAMAAL KI BAAT KARI HAI AAPNE ... BAHOT HI ACHHE LAGEE YE GAZAL/....DHERO BADHAAYEEYAAN...


ARSH

pallavi trivedi said...

मंदिर हो या मस्ज़िद उस का दोनों में आना-जाना है
जाने कैसी मिट्टी का है जाने कैसा दीवाना है

आदमियत अनदेखी करना उसकी फितरत से बाहर है
इसीलिये घर से बाहर से निपट अकेला बेगाना है

bahut umda...shaandaar ghazal.

डॉ .अनुराग said...

मंदिर हो या मस्ज़िद उस का दोनों में आना-जाना है
जाने कैसी मिट्टी का है जाने कैसा दीवाना है

jaane kyu ise padhkar vishnu prbhakar ji ka bachpan yaad aa gaya...jab ve jid me masjid ka pani pi kar aate the.....

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

न होता वो तो न मंदिर होता न मस्जिद होती।
वे भी समझ गए होते अगर मन में जिद होती।

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत शानदार रचना.

रामराम.

दिगम्बर नासवा said...

लाजवाब गुरु जी.............मंदिल मस्जिद वाला शेर........कतल लिखा है

SWAPN said...

mandir ho ya masjid.................

han dewaana hi to hai, jiski nazar men donon ek hain.

behatareen, shabdon se pare ki rachna. badhai sweekaren, maudgil ji.

इष्ट देव सांकृत्यायन said...

आदमियत अनदेखी करना उसकी फितरत से बाहर है
इसीलिये घर से बाहर से निपट अकेला बेगाना है

अल्पना वर्मा said...

मंदिर हो या मस्ज़द उस का दोनों में आना-जाना है
जाने कैसी मिट्टी का है जाने कैसा दीवाना है...
bahut umda!

Shefali Pande said...

वाह एक से बढ़कर एक शेर ....मज़ा आ गया

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर ..

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

मंदिर हो या मस्ज़िद उस का दोनों में आना-जाना है
जाने कैसी मिट्टी का है जाने कैसा दीवाना है

बहुत लाजवाब........

hem pandey said...

आदमियत को अनदेखी न कर सकने वाले ऐसे ही दीवाने मिसाल बनते हैं. एक सुन्दर रचना पढाने के लिए साधूवाद

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

"...जाने कैसी मिट्टी का है जाने कैसा दीवाना है"
बहुत सुन्दर, इन दीवानों से ही दुनिया कायम है.

गौतम राजरिशी said...

बहुत खूब सर...बहुत खूब

"मक़तल में हर कातिल प्यारे अपना जाना-पहचाना है"

वाह ! क्या बात है...!!!

Nitish Raj said...

फिर से एक बेहद अच्छी रचना, सुंदर अभिव्यक्ति।

योगेन्द्र मौदगिल said...

आप की टिप्पणियां मुझे नया रचने को प्रेरित करती हें इसलिये अपनी अमूल्य टिपपणियों के प्रति आभार स्वीकारें