डर लगता है.......

सहमा-सहमा शहर का मंज़र लगता है
चौबारों को गलियों से डर लगता है

दीवानों की बातें भी दीवानी हैं
दीवानों की बातों से डर लगता है

आंसू ही मेरे जीवन की पूंजी हैं
कतरा-कतरा एक समंदर लगता है

रातें-बातें अदा-हवा बहकी-बहकी
सिलवट-सिलवट सबका बिस्तर लगता है

जीने के जोखिम में लाखों लोग मरे
मुर्दारों को जीना बर्बर लगता है

शोख अदाएं देह सजा कर बैठी हैं
नगरी में हर रोज स्वयंवर लगता है

सोच अनोखी-अजब यहां के लोगों की
दिलों-दिमागों तक में अंतर लगता है
--योगेन्द्र मौदगिल

24 comments:

श्यामल सुमन said...

सहमा-सहमा शहर का मंज़र लगता है
चौबारों को गलियों से डर लगता है

क्या बात है योगेन्द्र भाई। मजा आ गया। तुकबंदी की आदत से मजबूर -

कहीं लेखनी रुक न जाये, फिर क्या होगा?
अगर मौदगिल को लिखने से डर लगता है

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

Kishore choudhary said...

Yogendra Ji,
Bahut khoobsurat... Shabd nahi hai tarref karne ko. BADHAAEE !!

"अर्श" said...

शोख अदाएं देह सजा कर बैठी हैं
नगरी में हर रोज स्वयंवर लगता है

MAUDGIL SHIB... FIR SE MAARA KARAARA AAPNE IS DHADHAKTI GARMEE ME... BAHOT HI KHUSURAT GAZAL KAHI AAPNE.. DHERO BADHAAYEE SAHIB...

ARSH

सुशील कुमार छौक्कर said...

वाह योगेन्द्र जी गजब का लिखा है हर शेर। बेहतरीन ग़ज़ल।
सोच अनोखी-अजब यहां के लोगों की
दिलों-दिमागों तक में अंतर लगता है

सच क्या कहने।

महामंत्री - तस्लीम said...

मौदगिल जी, माफी चाहूंगा, पर मुझे लग रहा है कि पहली लाइन का वज्न कुछ गडबड कर रहा है।
----------
सावधान हो जाइये
कार्ल फ्रेडरिक गॉस

अभिषेक ओझा said...

अब कहने को बाकी क्या रह गया ! बहुत बढ़िया.

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

ओह! यह तो ऊबड़ खाबड़ मामला लगता है।

मोना परसाई "प्रदक्षिणा" said...

जीने के जोखिम में लाखों लोग मरे
मुर्दारों को जीना बर्बर लगता है
vaah ..... aap jaise kavi hi itni bebaki se aaj ki zindgi ko byan kar sakate hae .

ताऊ रामपुरिया said...

घणी सुथरी रचना सै भाई. पर मन्नै एक बात बताओ कि बिना बूझे ताछे १५ दिन घर छोड के कित गये थे?

मैं तो अखबार मे गुमशुदा की तलाश मे विज्ञापन देण आला था.

अटल जी स्टाईल मे : ये अच्छी बात नही सै.:)

रामराम.

विनय said...

बहुत ग़ज़ब ग़ज़ल है

----
चाँद, बादल और शामगुलाबी कोंपलें

विनीता यशस्वी said...

जीने के जोखिम में लाखों लोग मरे
मुर्दारों को जीना बर्बर लगता है

bahut khub...

डॉ. मनोज मिश्र said...

आंसू ही मेरे जीवन की पूंजी हैं
कतरा-कतरा एक समंदर लगता है.....
बहुत खूब , उम्दा लाइनें .

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

जीने के जोखिम में लाखों लोग मरे
मुर्दारों को जीना बर्बर लगता है

बहुत खूब......

मौदगिल जी, के बात ईबकी बार तैं बडे घणे दिनां मैं दिख्याई पडे..अर आते ही दुकान का हुलिया बदल दिया.

SWAPN said...

आंसू ही मेरे जीवन की पूंजी हैं
कतरा-कतरा एक समंदर लगता है

wah maudgilji, gazal ke khubsurat guldaste men sabhi phool ek se badh kar ek.
badhai sweekaren.

अल्पना वर्मा said...

सहमा-सहमा शहर का मंज़र लगता है
चौबारों को गलियों से डर लगता है

bahut khuub likha hai!
har baar ki tarah yah gazal bhi pasand aayi.


[[meri nayi post par aayi aap ki tippani mein
'--gulabi kopalen--chand aur badal'--vinay ji ke blog ke link aaye hain!

samjh nahin aaya..

ki aap ke profile id se ,Vinay ji ke blog ke link kaise us tippani mein aaye! :)]

गौतम राजरिशी said...

कहाँ गुम हो जाते हैं कविवर एकदम से?
ब्लौग का नया लुक सुंदर है..
और ग़ज़ल हमेशा की तरह लाजवाब
"सिलवट-सिलवट सबका बिस्तर लगता है"
पर खूब सारी वाह-वाह !

विक्रांत बेशर्मा said...

सहमा-सहमा शहर का मंज़र लगता है
चौबारों को गलियों से डर लगता है

दीवानों की बातें भी दीवानी हैं
दीवानों की बातों से डर लगता है

क्या खूब बात कही है मौदगिल साहब ...बहुत ही ज़बरदस्त रचना है !!!

डॉ .अनुराग said...

रातें-बातें अदा-हवा बहकी-बहकी
सिलवट-सिलवट सबका बिस्तर लगता है

bahut achhe ..

रविकांत पाण्डेय said...

बहुत खूब!
शोख अदाएं देह सजा कर बैठी हैं
नगरी में हर रोज स्वयंवर लगता है

क्या बात कही गुरु!

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

बहुत सुन्दर. वाह.

RC said...

Bhaav aapki kuchh pehli rachnaaon se milte julte lage ... aur abhivyakti mein bhi khaas nayapan na dikha.
:-(

दिगम्बर नासवा said...

हकीकत और यथार्थ बयान है इस ग़ज़ल में.............आपने अपने अंदाज़ से हट कर लिखा है.बहुत sanjeeda ग़ज़ल है

मोहन वशिष्‍ठ said...

सहमा-सहमा शहर का मंज़र लगता है
चौबारों को गलियों से डर लगता है

मौदगिल साहब जी बहुत खूब क्‍या बात है दिल खुश कर देते हो लेकिन काफी दिनों तक इंतजार भी कराते हो ऐसा मत किया करो

एक बात मेरी समझ में नहीं आई जरा स्‍पस्‍ट किजिएगा कि ये आपने पहला शेर क्‍यों लिख दिया अरे भाई आजकल चुनावों का समय है तो शहर कहां से ठहर गया मैं हास्‍य कर रहा हूं मेरी बात का बुरा मत मानना

विनय said...

यह चुटकियों भरी ग़ज़ल ख़ूब रही

---
चाँद, बादल और शामगुलाबी कोंपलें