प्यार...............

प्यार का सारा ख़ज़ाना.
दोनों हाथों से लुटाना.

प्यार तो है प्यार, प्यारे,
प्यार ही सब से निभाना.

दुनिया भर की आंख का,
प्यार ही बनता निशाना.

प्यार, दुनिया की जरूरत,
प्यार सब का ताना-बाना.

प्यार जब से दरमियां है,
प्यार का है आना-जाना.

प्यार की मजबूरियां हैं,
प्यार है मन का बहाना.

प्यार को समझे रे पागल,
या समझता है दिवाना.

चल, चलें हम प्यार कर लें,
प्यार से ही पार जाना.

'मौदगिल' जी छेड़ दो बस,
प्यार का प्यारा तराना.
--योगेन्द्र मौदगिल

23 comments:

अंकित "सफ़र" said...

वाह-वाह
बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत जबरदस्त रचना ! शुभकामनाएं

दीपक "तिवारी साहब" said...

कवि वर प्रणाम आपको ! बहुत सुंदर !

Anil Pusadkar said...

सुन्दर रचना।

नीरज गोस्वामी said...

क्या बात है भाई...वाह...क्या प्यार पर प्यारी ग़ज़ल कही है...जिंदाबाद ...
नीरज

adil farsi said...

good...

अभिषेक ओझा said...

प्यार ही प्यार छलकाती रचना !

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही सुन्दर कविता, सुंदर भाव.
धन्यवाद

COMMON MAN said...

kya khoob likha hai pyar ke baare men, bas pyar hi pyar

seema gupta said...

" kya mnbhavan pyar ka trana cheda aapne, pyar he pyar beshumar... "

Regards

RC said...

Good versatile use of 'love' and things related. Really impressed to see the various colors depited through the Ashaar. But Ghazal is less impressive than your previous ones.

विनय said...

प्यार से प्यारी रचना के लिए ढेर सारा प्यार!

COMMON MAN said...

sir,

main kahin bahar tha, dashboard -> layout-> add a gadget me jaayen wahan par blog list ko add kar len, phir usme apne add mode me jaakar apne pasandida blogs ke address ko paste kar save karlen, aapka blog roll taiyar ho jaayega.

"अर्श" said...

"मौदगिल"जी छेड़ दो बस ,
प्यार का प्यारा तराना .

बहोत खूब अब तो आपको प्यार का तराना छेड़ना ही पड़ेगा ......
बहोत खूब लिखा है आपने साहब..ढेरो बधाई ...

Manish Kumar said...

seedha sahaj tareeka chuna aapne apni baat kahne ka par wo maza nahin aaya jaisa aksar aaya karta hai

लवली कुमारी / Lovely kumari said...

सुंदर गजल..बधाई

अनुपम अग्रवाल said...

अब क्या प्यार से प्यार खरीदोगे
प्यार का मतलब ही है बिक जाना
सलीका सिखायेगा दिल किसी का
प्यार को प्यार से ही दिख जाना

dr. ashok priyaranjan said...

अच्छा लिखा है आपने । िवषय की अभिव्यक्ित प्रखर है ।

http://www.ashokvichar.blogspot.com

गौतम राजरिशी said...

एक ओर ताउ ने ठहाका लगवाया सुबह-सुबह और दुजे आपने जो ये प्यार बरसाया...तो हम सराबोर हो चले अब काम पर

अल्पना वर्मा said...

खूबसूरत ग़ज़ल.
शुभकामनाएं

दिगम्बर नासवा said...

Kya baat liki hai

pyaar to pyaar hai
poori duniya main spread ho jaye to maja aa jaye

pallavi trivedi said...

badi pyari rachna hai....

योगेन्द्र मौदगिल said...

इस हल्की-फुल्की रचना को भी आपने सराहा इसके प्रति कृतग्यता ग्यापित करता हूं

एक नयी ग़ज़ल के साथ पुनः उपस्थित हूं

स्वागत है